• "I see what you don’t. Write about things least spoken of. Speak less, listen more. Watch less, observe more. Know more by learning more. Attach less, detach more. Be seen less, remembered more. And believe that less is, in fact, more."
  • "Today, organs can get replaced but no one has found a replacement for lost trust, abandoned hearts, shattered souls and tears that flowed. Imagine that!"
  • "Life is not a straight line. It is a circle. See you a-round!"
  • If you do not wish to cross the bridge when you get to it go ahead, take a boat... either way, cross over, you will have to."

Jun 11 2014

Baarish (बारिश)

Girl In Rain

Baarish…

 

Kabhi halki,

Kabhi chalakti,

Kabhi uchaltee,

Kabhi machaltee…

Barkha rani hai khoob sayani…

Laatee ek sukoon, ek bahaar,

Ek andaaz jo dil ko kar de behaal…

 

Kabhi dillon main pyaar jagatee,

Kabhi dard ka ehsaas dilatee…

 

Is tip-tip kartee baarish main,

Kisi ka soona sa dard bhi chipa hai…

Behtee huee aankhon ka dard,

Jo baarish main haulle-haulle ro detee hain,

Takee unhe koyee pehchaan na paaye.

 

Kabhee tumhe… is soone dard ka ehsaas hua hai?

Kabhee tumne un baarish main behtee huee aankhon ko pehchaana hai?

 

Aankhon kee har ek harkat kee ek aahat… ek aawaaz hotee hai…

 

Aansoo-on ke girne kee ek awaaz hotee hai…

Aankhon main base kajal ke behene ki bhi aahat hotee hai…

Palkon par jab aansoon ruk jaate hain,

To un bhaaree palkon ke jhapakne ki bhee ek aawaz hotee hai…

 

Jaise hee ye bhaaree palken jhapaktee hain…

Aansoo gaalon par gir padte hain…

Jab aansoo gaalon par girte hain, unkee bhi ek aawaaz hotee hai…

 

Kabhee sunayee deen hain?

Aisee awaazein?

Aisee aahatein?

 

Kabhee pehchaana hai?

Un behtee huee par chipee huee aankhon ko?

 

Jab aansoo gaalon par sarakte hain…

Ek halkee see gudgudee hotee hai…

Par is gudgudee main hasee nahi,

Ek chid-chidapan hota hai…

 

Jaise jaise aansoo gaal par sarakta hai

Ek-dum se haath, use be-rehmee se hata deta hai…

Haath jab aansoo ko mita deta hai,

Uskee maut kee bhi ek cheekh hotee hai…

 

Kabhee sunayee deen hain?

Aisee awaazein?

Aisee aahatein?

Aisee cheekhein?

 

Kabhee pehchaana hai?

Un behtee huee par chipee huee aankhon ko?

 

Reh jaata hai to bas ek geelapan… gaalon par…

Jahan kabhi ek aansoon hua karta tha…

Reh jaata hai to bas ek sookhapan… aankhon main

Jahan kabhi ek aansoon ne janm liya tha…

 

Reh jaata hai to bas ek soonapan… nazron main

Jab aankhein dekhtee to hain, par phir bhi kuch dikhaayee nahi deta…

Jaise ki behoshee main aankhein khulee si reh gayeen…

Band hona hee bhool gayeen!

 

Kabhee pehchaane hain?
Aise geele gaal… jin par aansoo-on ki maut huee ho?

Aisa sookhapan, jab koyee aankhen zor se mal leta hai aur wo laal see ho jaatee hain?

Jinhe log dekh kar bhi andekha kar dete hain?

 

Kabhee pehchaana hai?

Un behtee huee par chipee huee aankhon ko?

Jo baarish main haulle-haulle ro detee hain?

 

Kabhee sunayee deen hain?

Dabee awaazein?

Dabee cheekhein?

Aur unkee aahatein?

 

Nahin na?

 

Kyon nahin?

 

Bahut mushroof ho?

Dard se befikr ho?

Berehem ho?

Ya phir, besharam ho?

 

Kisikee ristee huee aankhen poch kar to dekho…

Kisikee siskiyan apnee aagosh main lekar to dekho…

Pyaar karke to dekho…

Un gehraiyon main doob kar to dekho…

 

Meree jaan,

Bas ek baar, humain samajh kar to dekho!

©Maulshri Rajdhan

********** HINDI **********
Baarish

बारिश

 

कभी हलकी,

कभी छलकती,

कभी उछलती,

कभी मचलती…

 

बरखा रानी है खूब सयानी,

लाती एक सुकून, एक बहार,

एक अंदाज़ जो दिल को कर दे बेहाल…

 

कभी दिलों  में प्यार जगाती,

कभी दर्द का एहसास दिलाती…

 

इस टिप – टिप करती बारिश में,

किसी का सूना सा दर्द भी छिपा है,

बहती हुई आँखों का दर्द,

जो बारिश में हौले-हौले रो देतीं हैं…

ताकि उन्हें कोई पहचान न पाए.

 

कभी तुम्हें इस सूने दर्द का एहसास हुआ है?

कभी तुमने उन बारिश में बहती हुई आँखों को पहचाना है?

 

आँखों की हर एक हरकत की एक आहट , एक आवाज़ होती है…

 

आँसुंओं के गिरने की एक आवाज़ होती है…

आँखों मैं बसे काजल के बहने की भी आहट होती है…

पलकों पर जब आँसूं रुक जाते हैं,

तो उन भारी पलकों के झपकने की भी एक आवाज़ होती है…

 

जैसे ही ये भारी पलकें झपकती हैं…

आँसूं गालों पर गिर पड़ते हैं.

जब आँसूं गालों पर गिर पड़ते हैं, उनकी भी एक आवाज़ होती है…

 

कभी सुनाई दीं हैं?

ऐसी आवाज़ें?

ऐसी आहटें?

 

कभी पहचाना है?

उन बहती हुई पर छिपी हुई आँखों को?

 

जब आँसूं गालों पर सरकते हैं,

एक हल्की सी गुदगुदी होती है,

पर इस गुदगुदी में हसी नहीं…

एक चिड़ – चिड़ापन होता है…

 

जैसे-जैसे आँसू  गाल पर सरकता है,

एकदम से हाथ, उसे बेरहमी से हटा देता है…

उसकी मौत की भी एक चीख होती है!

 

कभी सुनाई दीं हैं?

ऐसी आवाज़ें?

ऐसी आहटें?

ऐसी चीखें?

कभी पहचाना है?

उन बहती हुई पर छिपी हुई आँखों को?

रह जाता है तो बस एक गीलापन गालों पर…

जहाँ कभी एक आँसू  हुआ करता था.

रह जाता है तो बस एक सूखापन आँखों में…

जहाँ कभी एक आँसू  ने जन्म लिया था.

रह जाता है तो बस एक सूनापन नज़रों में…

जब आँखें देखती तो हैं, पर फिर भी कुछ दिखाई नहीं देता…

जैसे कि बेहोशी में आँखें खुली सी रह गयीं,

बंद होना ही भूल गयीं!

कभी पहचाना है?

ऐसे गीले गाल, जिन पर आंसूँओं की मौत हुई हो?

ऐसा सूखापन, जब कोई आँखें ज़ोर से मल लेता है और वो लाल सी हो जाती हैं?

जिन्हें लोग देख कर भी अनदेखा कर देते हैं?

कभी पहचाना है?

उन बहती हुई पर छिपी हुई आँखों को?

जो बारिश में हौले-हौले रो देती हैं?

कभी सुनाई दीं हैं?

दबी आवाज़ें?

दबी चीखें?

और उनकी आहटें?

नहीं ना?

क्यों नहीं?

बहुत मुशरूफ़ हो?

दर्द से बेफ़िक्र हो?

बेरहम हो?

या फिर बेशरम हो?

किसीकी रिसती हुई आँखें पोछ कर तो देखो…

किसीकी सिसकियाँ अपनी आगोश में लेकर तो देखो…

प्यार करके तो देखो…

उन गहराईयों में डूब कर तो देखो…

मेरी जान

बस एक बार, हमें समझ कर तो देखो!

©Maulshri Rajdhan

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>