• "I see what you don’t. Write about things least spoken of. Speak less, listen more. Watch less, observe more. Know more by learning more. Attach less, detach more. Be seen less, remembered more. And believe that less is, in fact, more."
  • "Today, organs can get replaced but no one has found a replacement for lost trust, abandoned hearts, shattered souls and tears that flowed. Imagine that!"
  • "Life is not a straight line. It is a circle. See you a-round!"
  • If you do not wish to cross the bridge when you get to it go ahead, take a boat... either way, cross over, you will have to."

Nov 19 2014

Chidiya Udd!

CagedBird

Chidiya Udd!!

एक इंसान ने एक चिड़िया को पिंजरे में रखा

रोज़ खुशी खुशी उसे खाना और पानी देता

उसे निहारता, पुचकारता, उस से बातें भी करता

बोलता, हँसता

कहता, “देखो, कितनी खुश है मेरी चिड़िया,

कितनी देखभाल करता हूँ मैं उसकी

सब कुछ तो है उसके पास, क्या कमी है?”

 

चिड़िया चुप रहती,

खाती, पीती  पर कभी नहीं गाती

हमेशा अपनी नज़र ऊपर रखती और एक टक तकती रहती

एक दिन इंसान ने सोचा

“ये चिड़िया क्या देखती रहती है? मैं भी तो देखूं”

उसकी नज़र के पथ पर चल पड़ा, नज़र ऊपर उठी

और उसने देखा खुला आसमान

ये देखते ही वो फूट-फूट कर रो पड़ा और बोला

“मैंने एक चिड़िया को पिंजरे में रखा

फिर उस पिंजरे को खुले आसमान के नीचे रख दिया ये सोच कर की वो खुश होगी

हाय ये मैंने क्या कर दिया !”

ज़ोर-ज़ोर से, बिलख-बिलख के रोने लगा

हाय-तोबा मचाने लगा

अपने दुःख पर रोता रहा

चिड़िया चुप रही

और धीरे धीरे उसने अपना दम तोड़ दिया

वहीं, उस पिंजरे में , खुले आसमान के नीचे

जैसे ही दम निकला, उसकी रूह उस पिंजरे से फट से निकल गयी

और फुर र र र र

उड़ चली !!

इस तरह, चिड़िया उड़ गयी

और इंसान कई दिनों तक अपने दुःख का मातम मनाता रहा

फिर एक दिन, उस से अपना दुःख सहा न गया

उस शाम, बाज़ार गया और एक और चिड़िया ले आया

चिड़िया को पिंजरे में रखा

रोज़ खुशी-खुशी उसे खाना और पानी देता

उसे निहारता, पुचकारता, उस से बातें भी करता

बोलता, हँसता

कहता, “देखो, कितनी खुश है मेरी चिड़िया,

कितनी देखभाल करता हूँ मैं उसकी

सब कुछ तो है उसके पास, क्या कमी है?

मेरी प्यारी चिड़िया “

**********************

Ek insaan ne ek chidiya ko pinjre main rakha,
Roz khushee-khushee use khaana aur paani deta,
Use nihaarta, puchkarta, us-se baatein bhi karta,
Bolta, hasta,
Kehta, “Dekho, kitnee khush hai meree chidiya,
Kitnee dekhbhaal karta hun main uskee,
Sab kuch to hai uske paas, kya kamee hai?”

Chidiya chup rehetee,
Khaatee, peetee par kabhee nahi gaatee…
Humesha apnee nazar upar rakhtee aur ek-tak taqtee rehetee…

Ek din insaan ne socha,
“Ye chidiya kya dekhtee rehetee hai? Main bhi to dekhoon.”
Uskee nazar ke path par chal pada, nazar upar uthee…
Aur usne dekha khula aasmaan…

Ye dekhte hee wo phoot-phoot kar ro pada… aur bola…

“Maine ek chidiya ko pinjre main rakha,
Phir us pinjre ko khule aasmaan ke neeche rakh diya
Ye soch kar ki… wo khush hogee…
Hai ye maine kya kar diya… !”

Zor-zor se, bilakh-bilakh ke rone laga,
Hai-toba machaane laga…
Apne dukh par rota raha…

Chidiya chup rahee…
Aur dheere-dheree usne apna dum tod diya…
Waheen, us pinjre main, khule aasman ke neeche…

Jaise hee dum nikla, uskee ruh us pinjre se phat se nikal gayee
Aur phurrrrrrrrrr
Udd chalee!!

Is tarah, chidiya udd gayee…
Aur insaan… kayee dino tak apne dukh ka maatam manaata raha.

Phir ek din, us-se apna dukh saha na gaya….
Us shaam, baazaar gaya aur ek aur chidiya le aaya…

Chidiya ko pinjre main rakha,
Roz khushee-khushee use khaana aur paani deta,
Use nihaarta, puchkarta, us-se baatein bhi karta,
Bolta, hasta,
Kehta, “Dekho, kitnee khush hai meree chidiya,
Kitnee dekhbhaal karta hun main uskee,
Sab kuch to hai uske paas, kya kamee hai?

Meree pyaaree chidiya… “

~ M*

1 comment

  1. Mamma

    Kya baat hai Tutul! Wonderful! Heartrending! Love you!

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>