• "I see what you don’t. Write about things least spoken of. Speak less, listen more. Watch less, observe more. Know more by learning more. Attach less, detach more. Be seen less, remembered more. And believe that less is, in fact, more."
  • "Today, organs can get replaced but no one has found a replacement for lost trust, abandoned hearts, shattered souls and tears that flowed. Imagine that!"
  • "Life is not a straight line. It is a circle. See you a-round!"
  • If you do not wish to cross the bridge when you get to it go ahead, take a boat... either way, cross over, you will have to."

Feb 21 2016

Chita – चिता – Funeral Pyre

Chita / चिता

अब तो तुम्हारी गलियों के

कुत्तों की आवाज़ें भी पहचानने लगी हूँ

शुक्र है उन्होंने अब तक मुझे देखा नहीं

… वरना दीवानी समझ कर शायद काट खाते

*****

दर दर भटकती रहती हूँ तुम्हारे इंतज़ार में…

दर दर भटकती रहती हूँ तुम्हारे इंतज़ार में…

अब तो तुम्हारी गलियों के भूत भी मुझे

… अपनों से लगने लगे हैं

*****

किसी दिन कहीं, अकेले ना मर जाऊं मैं…

किसी दिन कहीं, अकेले ना मर जाऊं मैं …

आंसूंओं में इतना तर चुकी हूँ

कि अब तो लकड़ी भी ना जल पाएगी…

आंसूंओं में इतना तर चुकी हूँ

कि अब तो लकड़ी भी ना जल पाएगी …

… सीली लकड़ी में जलकर

अब तो मुक्ति भी ना मिल पाएगी…

*****

जलाने केलिए वैसे अब बचा ही क्या है ?

जलाने केलिए वैसे अब बचा ही क्या है…

तुम्हारा साथ ना मिला

… तो वैसे ही मिट्टी में मिल जाना है !

©Maulshri

 

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>